हेंगर से बाहर आया दुनिया का सबसे बड़ा प्लेन



big 1.jpg

दोस्तों इंसान ने उड़ते पक्षी की परिकल्पना कर खुद की उड़ने की चाहत को हक़ीक़त का रूप देते हुए हवाई जहाज का निर्माण कर खुद को आसमान की उचाईयो तक पहुंचाया ! आज विविध  प्रकार के हवाई जहाज तथा अत्याधुनिक तकनीक से लैस  चाहे मानव रहित हवाई जहाज हो या लड़ाकू विमान हो अथवा विशालकाय ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट जैसे एयरबस 380  या बोईंग 737  हो जिससे हम परिचित है !  इंसानी दिमाग दिन प्रतिदिन नई सोच और सपने के साथ कुछ न कुछ नए आविष्कार को जन्म देता है ! इसी सोच और सपने के साथ माइक्रोसॉफ्ट के सह- संस्थापक पॉल एलन ने बीते दिन सबसे बड़े हवाई जहाज को दुनिया के सामने प्रकट किया ! पॉल एलन जो की के करोड़पति  बिसनेस मैन है और बिल गेट्स के पुराने साथी जिनके साथ मिलकर  माइक्रोसॉफ्ट की नींव रखी थी ! उन्होंने इस जहाज की परिकल्पना 2011 में की तब इस जहाज की लागत 300 मिलियन आंकी गयी थी ! एक फुटबॉल मैदान के बराबर विंग स्पान (चौड़ाई ) वाले इस प्लेन की कई खासियत एवं विशेषताए  है I


दो फ्यूज़लाज़ (कम्पार्टमेंट) वाले इस विशालकाय जहाज को कैलिफ़ोर्निया के मोजावे  में स्तिथ हेंगर से फ्यूलिंग के लिए बाहर लाया गया ! इस जहाज का निर्माण पॉल एलन की ही  सॅटॅलाइट लांच करने वाली कंपनी स्ट्रैटोलॉन्च  सिस्टम्स ने बनाया है ! 28  पहिये वाले इस प्लेन का नाम भी स्ट्रैटोलॉन्च  रखा गया है !  लगभग 50 फुट (15मीटर ) उचाई वाले इस जहाज में 6 बोईंग 747 जहाज के इंजन लगे है! इसका विंग स्पान ( चौड़ाई ) अभी तक बनाए गए   किसी भी एयरक्राफ्ट से बड़ा है ! इसकी चौड़ाई 117  मीटर अर्थात एक फूटबाल के मैदान  के चौड़ाई के बराबर है ! जो की  होवार्ड  हग्स  के एयरक्राफ्ट  ’ “स्प्रूस  गूस  ,”  जिसकी विंग चौड़ाई 97 .5  मीटर थी उससे भी बड़ा है !  इस विमान की लम्बाई 238  मीटर है !

इस एयरक्राफ्ट का वजन 2.25 लाख  किलोग्राम  है ! इसे 1.3 मिलियन पाउंड वजन की क्षमता के साथ उड़ाया जा सकता है ! यह एलन का  पहले सॅटॅलाइट लॉन्चिंग प्रोग्राम का हिस्सा है ! स्ट्रैटोलॉन्च  सिस्टम्स के चीफ  एग्जीक्यूटिव  अफसर जीन  फ्लॉयड  के अनुसार अगले कुछ हफ्तों मैं यह प्लेन मोजावे पोर्ट से ग्राउंड फ्लाइट के लिए तैयार होगा !

आपको बता दू की  इस विशालकाय जहाज के  निर्माण का उद्देश्य  एक  निश्चित उचाई  पर जाकर लॉन्चिंग व्हीकल को छोड़कर  पृथ्वी की लौ ऑर्बिट में  सॅटॅलाइट को स्थापित करना है !  दो फ्युलाज़ के बिच सॅटॅलाइट  व्हीकल लोड कर एक उचाई से सॅटॅलाइट छोड़ा जाएगा !  अभी सॅटॅलाइट  जमीन से लॉन्चिंग पैड की मदद से प्रक्षेपित किये जाते है !  जिसमे बहुत ज्यादा फ्यूल का इस्तेमाल होता है ! इस जहाज की मदद से  हवा में  एक निश्चित उचाई पर सॅटॅलाइट को लॉन्चिंग  व्हीकल  द्वारा छोड़कर  फ्यूल को बचाया जा सकता है ! साथ ही इसे प्रक्षेपित करने में होने वाले खर्च में भी काफी कमी आएगी ! स्ट्रैटोलॉन्च द्वारा पहले सॅटॅलाइट प्रक्षेपण का प्रदर्शन 2019  तक किया जा सकता है!

दोस्तों आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करके अधिक लोगो में पहुचाये ! साथ ही अपने विचार नीचे कमेंट के माध्यम से अवश्य दे !






Comments

  1. nice work ..keep updating us !

    ReplyDelete
  2. Where is this hangar located? the beasts look like tiny birds comparitively.

    ReplyDelete
  3. Read It carefully i mentioned in above article !!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

बम्बई अंडरवर्ल्ड की अनसुनी कहानी की वेब सीरिज़

एक राष्ट्र दो ध्वज : जम्मू कश्मीर की राह पर कर्नाटक राज्य

जीवन के प्रति नज़रिया