क्रिकेट पर हावी आधुनिक तकनीक

icc 2.jpg
 

दोस्तों , आज से लंदन में क्रिकेट के आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी 2017  का आगाज़ हो रहा है ! आईसीसी चैंपियन्स ट्रॉफ़ी , विश्व क्रिकेट परिषद (आईसीसी) द्वारा आयोजित की जाने वाली एक द्विवार्षिक प्रतियोगिता है। इसे क्रिकेट के विश्व कप के बाद सबसे बड़ी प्रतियोगिता के रूप में देखा जाता है और कुछ लोग इसे मिनी विश्व कप भी कहते है। 1998   से शुरु होकर अभी तक कुल 6 बार इस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है ! क्रिकेट के प्रति लोगो में दीवानगी अन्य खेलो की उपेक्षा बहुत ज्यादा है !  विशेष कर भारत जैसे देश में इसकी लोकप्रियता एवं जूनून लोगो में सर चढ़कर बोलता है ! इसलिए महान क्रिकेटर एवं भारत रत्न सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट के भगवान् की उपाधि दी जाती है ! लोगो में इस तरह दीवानगी और उत्साह को देखते हुए क्रिकेट में समय समय पर नए नए बदलाव किये जाते है ! आज क्रिकेट इतना आधुनिक तकनीक से लेस होता जा रहा है की मीलो दूर बैठा दर्शक भी हर एक शॉट को  बारीकी से देखता है ! इसलिए समयानुसार  बदलते जमाने में नई नई तकनीक का उपयोग कर क्रिकेट के इस खेल को बहुत ही आधुनिक और आकर्षक बनाया जा रहा है ! क्रिकेट में इसी बदलाव को जारी रखते हुए और क्रिकेट के खेल को और सटीक बनाने के लिए आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी 2017 के इस टूर्नामेंट में  इतिहास में पहली बार  बैट सेंसर्स  का प्रयोग किया जा रहा है ! साथ ही पिच के मिज़ाज़ और स्टेडियम के हर कोने पर नज़र रखने के लिए ड्रोन सिस्टम का प्रयोग किया जा रहा है !  क्या है बैट सेंसर्स तकनीक  एवं इसका इस्तेमाल का उद्देश्य क्या है ? आइये समझते है !



बैट सेंसर्स एवं ड्रोन का प्रयोग :

1  जून 2017  से 18  जून 2017  तक होने वाले इस टूर्नामेंट में भाग लेने वाली 8  टीमों में से प्रत्येक टीम के 3 सदस्य इस चिप लगी बैट सेंसर का प्रयोग करेंगे !   इसी वर्ष अप्रैल माह में चिप बनाने वाली कंपनी इंटेल  और आई सी सी के बीच हुए महत्वपूर्ण करार के बाद इस तकनीक को अपनाया जा रहा है !  इस चिप के जरिये बल्लेबाज़ का डाटा रिकॉर्ड किया जाएगा ! भारतीय टीम में यह चिप रोहित शर्मा , अजिंक्य रहाणे एवं आर आश्विन के बैट में लगाई जाएगी ! अभी तक बेस बॉल के खेल में इस चिप का इस्तेमाल किया जाता था ! इस चिप से बल्लेबाज़ के पिच  मूवमेंट एवं शॉट्स का डाटा रिकॉर्ड होता है ! इस डाटा से पता चलेगा की बल्लेबाज़ ने कितनी गेंद ऑफ साइड में खेली , कितनी गेंद लेग साइड में खेली और कितनी गेंदों पर तेज़ प्रहार किया ! आई सी सी के चैयरमेन डेविड रिचर्डसन ने कहा की ये बेहद रोमांचक है ! इसी साल अप्रैल में आई सी सी ने इंटेल कंपनी को इनोवेशन पार्टनर चुना था ! यह सेंसर बैट के हैंडल पर लगाया जाएगा ! वही साथ में ड्रोन सिस्टम की मदद से पिच का मुहायना किया जाएगा तथा इसकी मदद से स्टेडियम के चप्पे चप्पे पर निगरानी रखी जाएगी ! अब देखना होगा टीम इस चिप का इस्तेमाल किस तरह करती है एवं इससे क्रिकेट को कितना फायदा होता है I



क्रिकेट में इस्तेमाल  कुछ महत्वपूर्ण तकनीकें  :

वर्ष 1877 में हुए क्रिकेट के पहले मैच और आज के क्रिकेट में जमीन आसमान का अंतर है ! क्रिकेट के उस दौर में  तकनीक शुन्य के बराबर थी परन्तु आज अत्याधुनिक साजो सामान एवं तकनीक से यह खेल के प्रति आकर्षकता चरम पर है ! आइये क्रिकेट के इन्ही कुछ तकनीक को समझते है !

  1. हॉकेये  (Hawkeye ) :   ये एक तरह का कंप्यूटर सिस्टम है ! इसका इस्तेमाल वर्ष 2001 में किया गया ! जो गेंद की दिशा  को बताता है !  विशेषकर डीआरएस ( डिसीज़न रिव्यु सिस्टम ) में अंपायर द्वारा खिलाडी को  एलबीडबल्यू  दिए जाने पर पुनः गेंद की दिशा एवं विकेट पर इम्पैक्टको दिखने के लिए किया जाता है !

  1. सनिक  ओ मीटर (Snick O Meter) :   इस तकनीकी का अविष्कार वर्ष 2001 में डॉ. पॉल हॉकिंस (यु के ) द्वारा टेलीविज़न के दर्शको के आकर्षण के लिए बनाया गया था ! इस तकनीक का उपयोग क्रिकेट, टेनिस, सॉकर एवं हर्लिंग इत्यादि खेलो में गेंद के पिच पर इम्पैक्ट के लिए किया जाता है !

  1. स्पाइडर केम :   6 से 7 कैमरा द्वारा स्टेडियम के ऊपर से खिलाडी द्वारा लगाए गए हर शॉट्स को बारीकी से दिखाया जाता है !


  1. स्टंप कैमरा :   आजकल क्रिकेट में एक छोटा माइक्रोफोन स्टंप में लगाया जाता है जिससे साउंड इफेक्ट द्वारा गेंद बल्ले पर लगी या बैट्समेन के पैड पर इसको ट्रेस किया जाता है ! साथ ही इसमें खिलाड़ियों द्वारा की गयी स्लेजिंग एवं वार्तालाप को भी रिकॉर्ड किया जाता है !

  1. इंस्टेंट रीप्ले :  इस तकनीक में ग्राउंड में स्तिथ दो इंफ़्रा रेड कैमेरा द्वारा बल्ले और गेंद में फ्रिक्शन एवं टकराने के लिए किया जाता है ! आम तौर पर गेंद खिलाडी के ग्लव्स अथवा शरीर के किसी अन्य भाग पर लगी है या बैट पर इसका पता लगाकर डिसिशन दिया जाता है !



इसके अलावा भी क्रिकेट में कई तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है एवं आने वाले समय में इसे कई और आधुनिक तकनीक से लेस किया जा सकता है ! दोस्तों ये जानकारी आपको कैसी लगी , हमे नीचे कमेंट कर अवश्य बताए ! साथ ही इसे शेयर कर अधिक से अधिक लोगो में पहुंचने में हमारी मदद करे !

Comments

  1. aapne bhi bdi bariki se likha hai ... :)

    ReplyDelete
  2. How is your research so deep?

    ReplyDelete
    Replies
    1. I m trying to give better facts .. thanks for comment

      Delete
  3. Are you getting paid or write this as a hobby��?

    ReplyDelete
    Replies
    1. i am a freelance content writer .. n i am passionate about it . its my page to give you interesting facts ...

      Delete
    2. OKAY COOL

      Delete
  4. I am a mediocure in understanding cricket but this chip does justice while judging.

    ReplyDelete
  5. yes !! chip Records all shots and bat movement of the player ..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

बम्बई अंडरवर्ल्ड की अनसुनी कहानी की वेब सीरिज़

एक राष्ट्र दो ध्वज : जम्मू कश्मीर की राह पर कर्नाटक राज्य

जीवन के प्रति नज़रिया