कुलभूषण जाधव ज़िन्दा है या नहीं ?

kulbhushan jadhav.jpg





दोस्तों , कुलभूषण जाधव को आप सभी जानते है पिछले कुछ दिनों से  कई नई चैनेलो की ब्रेकिंग न्यूज़ तथा अखबारों की मुख्य हेडलाइन्स में इनका जिक्र किया है ! हिंदुस्तान पाकिस्तान के बीच इनको लेकर एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है !  पाकिस्तान की हाई कोर्ट द्वारा उन्हें  भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी रॉ का जासूस बताते हुए फांसी की सज़ा सुनाई गयी है ! वही भारत ने इस सजा का विरोध करते हुए मामले को अंतराष्ट्रीय न्यायालय में  उठाया गया ! भारत की और से देश के सबसे प्रतिष्ठित एवं महंगे वकील श्री हरीश साल्वे जी ने कुलभूषण के पक्ष में अंतराष्ट्रीय न्यायालय में पाकिस्तान को  विएना संधि का उल्लंघन करते हुए फांसी की सज़ा को अंसवैधानिक बताया ! हरीश साल्वे जी ने भारत सरकार की और से पक्ष रखने की फीस मात्र 1 रुपया ली !  नतीजा गुरुवार को भारत को अंतराष्ट्रीय पटल पर भारत की विजय के रूप में सामने आया ! अंतराष्ट्रीय न्यायालय के हवाले से कहा गया की पाकिस्तान को बिना सबूत प्रस्तुत किये फांसी देना गलत है ; इस पर फिलहाल रोक लगाई जाए  तथा  विएना संधि के अनुसार भारत  कुलभूषण से मिल सकता है साथ ही उनके परिजनों को मिलने दिया जाए  पाकिस्तान की अंतराष्ट्रीय मंच पर फिर से एक बार जग हसाई हुई है ! परन्तु यहां ये देखने वाली बात है की पाकिस्तान ने आनन् फानन में कुलदीप भूषण को फांसी की सज़ा क्यों दी और पाकिस्तान सरकार द्वारा कुलभूषण से मिलने की बात को बार बार सिरे से खारिज कर दी ! यही नहीं कुलभूषण जाधव के परिवार वालो के वीज़ा को मंजूर नहीं किया तथा मिलने  नहीं दिया ! भारत के कई रक्षा विशेषज्ञों ने इसे बहुत ही गंभीर मामला बताया है कुछ ने कहा है की भारत को कुलभूषण से मिलने में जल्दी दिखानी चाहिए क्यूंकि पाकिस्तान पर भरोसा नहीं करना  चाहिए  हो सकता है कुलभूषण को उन्होंने पहले ही मार दिया हो ! विशेषज्ञों ने ऐसा क्यों कहा आइये सिलसिलेवार तथ्यों को समझते है!

पाकिस्तान  सरकार के हवाले से  पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को डेढ़ वर्ष पूर्व  बलूचिस्तान में पकड़ा ! उनके अनुसार कुलभूषण जाधव रॉ का एजेंट थi जो बलूचिस्तान में रहकर पाकिस्तान के खिलाफ साज़िश रच रहा था ! कुलभूषण जाधव  के पास से मुबारक पटेल नाम का पासपोर्ट मिला है तथा उसी नाम से  वहा  ट्रांसपोर्ट का व्यवसाय करता था ! कुलभूषण जाधव का परिवार मुंबई में रहता है ! कुलभूषण अपने परिवार से मराठी में बात करता था ! पाकिस्तान की एजेंसियो ने उसके फोन को ट्रैक कर उसे पकड़ लिया ! बाद में पाकिस्तान ने एक टेप भी जारी किया जिसमे कुलभूषण जाधव बता रहा है की वो एक रॉ का एजेंट है और पाकिस्तान में होने वाली आंतकवादी गतिविधियो में उसका हाथ है तथा बलूचिस्तान के अलगाववादियों को भी वो मदद करता था !


वही भारत सरकार की और से ये सभी आरोप को सिरे से खारिज कर बताया की कुलभूषण जाधव भारतीय नेवी में अफसर थे तथा उन्होंने अपनी स्वेछा से 2004  में रिटायरमेंट ले लिया था ! इसके पश्चात वो ईरान में व्यापार करते थे ! वही से आई एस आई के एजेंट्स ने उनको अगवा कर लिया ! और उनके द्वारा दिए गए बयान उनसे जबरदस्ती या किसी दबाव में दिलवाये गए है ! यह गौर करने वाली बात है की उनका यह वीडियो काफी संदेहास्पद है क्यूंकि वीडियो में कई एडिट की गए है !


भारत सरकार ने विएना संधि का हवाला देते हुए कई बार पाकिस्तान से कुलभूषण से मिलने की बात कही गयी ! आपको बता दू विएना संधि वर्ष 1961  में हुई थी ! जिस पर 191  देशो ने अपनी सहमति से हस्ताक्षर किये थे ! इस संधि के अनुसार किसी आज़ाद देश के जासूस को किसी अन्य देश में पकड़ा जाता है तो उसे राजनयिक की तरह देखा जाए ! उसके अनुसार उसका देश उसके मामले में पक्ष एवं सबूत रखता है एवं उससे प्रतिनिधि मिल सकते है एवं इस सजा के खिलाफ अपील कर सकते है , परन्तु पाकिस्तान द्वारा भारत को कुलभूषण से नहीं मिलने दिया जा रहा ! वही जाधव के परिवार के सदस्यों का वीज़ा भी खारिज करता रहा है !


अचानक  दिनांक 10 अप्रैल 2017  को पाकिस्तान से खबर आती है की कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाई गयी है ! यह खबर का भारत ने बहुत विरोध किया ! भारत ने इसी विएना संधि का हवाला देते हुए इसे मानवाधिकार का उल्लंघन बताया तथा इसे अंतराष्ट्रीय न्यायालय में उठाया ! जहा भारत की जीत हुई !


परन्तु कई जानकार मानते है की पाकिस्तान पर विश्वास नहीं किया जा सकता पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवादी गतविधियों और भारत में हुए उरी हमले से दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए पाकिस्तान ने यह साजिश रची है ! ताकि भारत पर उसके देश में आंतकवादी गतिविधियों में शामिल बता सके ! परन्तु कुछ रक्षा विशेषज्ञों ने इसके उल्ट इस तरह विएना संधि का उल्लंघन करना और आनन् फानन में फांसी देना एक गंभीर साजिश बताया है !  भारत के रक्षा विशेषज्ञ महरूफ राजा ने टाइम नाउ चैनल को दिए इंटरव्यू यह चिंता प्रकट की है की कही पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव को जेल में ही मार नहीं दिया हो जिसके कारन आनन् फानन में ये सजा दी गयी ! भारत सरकार के प्रतिनिधियों  को जल्द से जल्द कुलभूषण जाधव से मिलना चाहिए !


दोस्तों हमारी कामना है की कुलभूषण जाधव जीवित हो और दीर्घायु हो और जल्दी ही भारत सरकार उन्हें स्वदेश वापस ले आये परन्तु पाकिस्तान हमेशा से दोगलापन का व्यवहार अपनाता रहा है ! भारत के कई वीर सपूत पाकिस्तान की जेलों में कड़ी यातना सह कर प्राणो की कुर्बानी दे चुके है ! आशा है भारत जल्दी ही उन से मिले और उन्हें रिहा करवाए !






Comments

  1. Wow this stuff is really mind boggling.

    ReplyDelete
  2. Perfectly curated facts & well written article. +1 from my side! :)

    ReplyDelete
  3. thanx for your kind words .....

    ReplyDelete
  4. I didnt even know such these details until your blog.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

बम्बई अंडरवर्ल्ड की अनसुनी कहानी की वेब सीरिज़

एक राष्ट्र दो ध्वज : जम्मू कश्मीर की राह पर कर्नाटक राज्य

जीवन के प्रति नज़रिया