इंटरनेट की रहस्यमयी दुनिया

dark.jpg



इंटरनेट को आज सभी जानते है ! किसी न किसी प्रकार से अथवा किसी न किसी माध्यम से इसका इस्तेमाल करते है ! डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू (वर्ल्ड वाइड वेब) इसका प्रसार इतना हो गया है की आप सभी सोचते होंगे इंटरनेट जो आप देख रहे है वो काफी विस्तारित है इसका पूर्ण इस्तेमाल आप नहीं कर सकते है ! परन्तु आपको ये पता है की आज हम जो इंटरनेट उसे कर रहे है वो वर्ल्ड वाइड वेब का मात्र 10 % हिस्सा है ! दरअसल आप इंटरनेट को जितना बड़ा सोचते है ; हकीकत में वो आपकी कल्पना से भी बाहर है ! आप अभी इंटरनेट के केवल एक भाग से भिज्ञ है परन्तु इंटरनेट का 90  % हिस्सा आप की सोच के दायरे से भी परे है ! इंटरनेट पर आप अभी सरफेस वेब ही इस्तेमाल करते है और वास्तव में यही इंटरनेट जो है वो लीगल है लेकिन इंटरनेट का बाकि हिस्सा को सर्च करना अवैध है , आज हम उसी इंटरनेट के बाकि हिस्सों के बारे मैं जानेगे ! दोस्तों इस लेख के सम्बन्ध में आपको यह अवगत करना जरुरी है की इंटरनेट के बाकि हिस्से को सर्च करना अथवा इस्तेमाल करना अपराध है , इस लेख का मकसद बस आपको सच्चाई से अवगत कराना है !इंटरनेट के इसी बाकि हिस्से को समझते है मूलतया इंटरनेट को चार भागो में विभाजित किया गया है ;  आइये इसे बारी बारी समझते है !


सरफेस वेब :

web.jpg


इंटरनेट आज की दुनिया में लोगो की जरुरत बन गया है! सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की मदद से आज हम लोग एक दूसरे से जुड़े हुए है ! कई सर्च इंजन की मदद से हम चुटकियो में जानकारी हासिल कर सकते है !  इंटरनेट पर हर समस्या का समाधान मौजूद है ! आप भी सोचते होंगे जब किसी चीज़ की जानकारी प्राप्त करने हेतु जब हम गूगल या अन्य कोई सर्च इंजन पर इसे सर्च करते है तो वो सर्च इंजन आपके सामने उस चीज़ से रिलेटेड कई चीज़े प्रस्तुत कर देता है तब आपको यह एहसास होता है की इंटरनेट कितना विस्तृत है परन्तु आज जितना हम इंटरनेट को सर्फ कर रहे है वो वर्ल्ड वाइड वेब का मात्र 10 % हिस्सा है ! इंटरनेट के इस हिस्से को हम सरफेस वेब कहते है! इंटरनेट पर हमे तमाम जानकारीया इसी हिस्से से प्राप्त होती है ! वर्ल्ड वाइड वेब एक अथाह समुन्द्र है ! इसके इसी सीमित भाग सरफेस वेब को ही हम सब कुछ नहीं मान सकते !इसी इंटरनेट के 10% भाग से हमे पूरी दुनिया की जानकारी प्राप्त होती है ; इंटरनेट का यही हिस्सा हमारे लिए उपयोगी है !


डीप वेब :

images (3).jpg


इंटरनेट के बाकि 90 % भाग मैं सर्वप्रथम डीप वेब आता है ! डीप वेब को हमारे नार्मल ब्राउज़र गूगल क्रोम , फायरफॉक्स तथा अन्य सर्च इंजन की मदद से एक्सेस किया जा सकता है लेकिन डीप वेब को चलiने के लिए आपको स्पेशल यूआरएल अथवा लिंक पता होना चाहिए ! कई देशो में टॉप सीक्रेट एजेन्सिया ,पुलिस एवं फोर्सेज  इस तरह की वेब का इस्तेमाल करते है ! मसलन आर्मी को अपना कुछ सीक्रेट डाटा अपनी दूसरी एजेंसी को भेजना हो या बताना हो तो वो उसे डीप वेब मैं अपलोड कर देते है ! फिर वो उसका यूआरएल दूसरी एजेंसी को बता देते है फिर वो उस लिंक के जरिये जानकारी प्राप्त कर सकते है ! डीप वेब पर कई कंपनियों की टॉप सीक्रेट जानकारी रखी गयी है ! कई व्यक्तियो के टॉप सीक्रेट रखे जाते है !


डीप वेब को इस्तेमाल करना पूरी तरह वैद्य है ! बस आपको यूआरएल पता होने चाहिए Iआप इसे अपने ब्राउज़र से सर्च कर सकते है एवं इस्तेमाल भी ! बस यह एक तरह की सीक्रेट वेब सर्विस है !


डार्क वेब :

images (4).jpg


डीप वेब का ही कुछ हिस्सा डार्क वेब माना  जाता है परन्तु यह इंटरनेट का काला हिस्सा है ! इंटरनेट में अगर डीप वेब से और गहराई में जाए तो डार्क वेब प्रकट होता है ! इस तरह के वेब पर सर्फ करना तथा इसका इस्तेमाल करना अपराध है ! कई देशो में ये इललीगल अर्थात अवैध है ! डार्क वेब पर कई तरह के अपराधों को प्रसारित किया जाता है ! डीप वेब की तरह डार्क वेब का लिंक आपके पास होना चाहिए  ! डार्क वेब पर सभी तरह के अवैध काम होते है जैसे ड्रग्स खरीदना , बेचना  चाइल्ड पोर्नोग्राफी , मानव शरीर के अंग बेचना , लाइव मर्डर इसके अलावा आप हिट मैन हायर कर सकते है और लोगो को मरवा सकते है ! डार्क वेब को इस्तेमाल करना अथवा इसको सर्फ करना भी गैर कानूनी है ! आपको पकड़ा जा सकता है ! डार्क वेब पर रेड रूम होते है जहा लोगो को काटा जाता है लाइव तथा कई तरह के बुरे काम होते है ! इसका कोई सर्वर नहीं होता है इसको सर्च करना आपके नार्मल ब्राउज़र से संभव नहीं है ! अमेरिका की नेवी की एजेंसी ने एक टोर नाम का ब्राउज़र बनाया जिसको सीक्रेट सर्च के लिए इस्तेमाल किया जाता था ! टोर ब्राउज़र पर आपकी पहचान गुप्त रहती है और सर्वर भी पता नहीं चलता ! टोर ब्राउज़र को चलाना वैध है परन्तु इसकी मदद से डार्क वेब को सर्च करना अपराध है ! आपको पकड़ा जा सकता है !


मरियानास   वेब  :

download.jpg


मरियानास  वेब  इंटरनेट की सबसे ख़ुफ़िया जगह है ! मरियाना ट्रेंच समुन्द्र का सबसे गहरा हिस्सा होता है ! इसी कारण इस वेब का नाम मरियानास वेब पड़ा है !  इस तरह की वेब को सर्च करने के लिए आपको स्पेशल लिंक की जानकारी के अलावा आपके पास उस वेब को एक्सेस करने के लिए चाबी होनी चाहिए मतलब उसका पासवर्ड इत्यादि ! माना जाता है की मरियानास वेब पर कई देशो की गुप्त जानकारिया पड़ी है यही नहीं वर्ल्ड की टॉप सीक्रेट सोसाइटी इल्लुमिनाति भी इसी वेब के जरिये अपने लोगो से संपर्क करती है ! इस वेब पर अदृश्य द्वीप अटलांटिस की कई अहम  जानकारिया रखी हुई है ! मरियाना वेब पर कई तरह की गुप्त गतिविधियों को अंजाम दिया जाता है !


दोस्तों आज हम जो अपने साधारण ब्राउज़र से जो इंटरनेट की कई हज़ारो साइट्स का इस्तेमाल कर रहे है वो मात्र 10 % है बाकि 90% इंटरनेट की ब्लैक साइड्स है ! इस तरह की वेब को सर्च करना अपराध है ! कृपया इससे बचे ! इस लेख का मकसद बस आपको सच्चाई से रूबरू करवाना है !


लेख पसंद आये तो इसे कमेंट अथवा शेयर जरूर करे !!!!!

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

बम्बई अंडरवर्ल्ड की अनसुनी कहानी की वेब सीरिज़

एक राष्ट्र दो ध्वज : जम्मू कश्मीर की राह पर कर्नाटक राज्य

जीवन के प्रति नज़रिया