बिटकॉइन( क्रिप्टो करेंसी )का बढ़ता चलन भारत के परिदृश्य में



bitcoin.jpg



प्रस्तावना :


दोस्तों , सरकार द्वारा लिए गए नोटबंदी के फैसले के बाद हम कुछ हद तक डिजिटल लेन देन को बढ़ावा देने में सफल हुए है ! सभी इस बात को भली भांति जानते है की आज के प्रतिस्पर्धा के युग में हम इसके बदलते तौर तरीके अपनाने को आतुर रहते है अपितु यह कड़वी सच्चाई भी है की इनको अपनाने को मजबूर भी है ताकि बदलते जमाने में कह़ी हम पीछे ना छूट जाए ! इसी बदलते युग में बिटकॉइन का आविष्कार हुआ जो की डिजिटल लेन देन की दुनिया में एक क्रांतिकारी माध्यम साबित हो रहा है ! हालांकि भारत में इसका प्रभाव अभी कम है परन्तु सोने से भी महंगी इस करेंसी का भविष्य सुनहरा हैI आज हम इसी क्रिप्टो करेंसी ( अदृश्य मुद्रा  ) के बारे में जानेगे एवं भारत के परिवेश में भविष्य में यह कितना कारगर साबित होगा ये समझेंगे !


आप लोगो ने हमेशा से करेंसी को अलग अलग रूप में इस्तेमाल किया है एवं इस मुद्रा को अपने पर्स अथवा लॉकर में रखा है ! हर देश की अपनी अपनी करेंसी है , किसी देश में करेंसी का कितना सर्कुलेशन  होना है , ये वहा की सरकारें और वित्तीय संस्थाए निर्धारित करती है ! परन्तु बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी है जिसका कोई स्वरूप नहीं है यह एक तरह की अदृश्य मुद्रा है जिसका मूल्य कई गुना ज्यादा है ! बिटकॉइन पैसो के लेनदेन की ऐसी व्यवस्था है , जिस पर किसी सरकार या एजेंसी अथवा बैंक का नियंत्रण नहीं होता ! बिटकॉइन के जरिये पैसो का लेनदेन दो व्यक्तियों के बीच होता है , ये लेनदेन पूरी तरह एन्क्रिप्टेड (सुरक्षित) होता है !  ये रकम आपके पास डिजिटल कोड के रूप मैं पहुँचती है यही कोड आपकी रकम होती है जिसे आप सुविधानुसार खर्च कर सकते है !  आज से 5  वर्ष पूर्व एक बिटकॉइन की कीमत भारतीय मूल्य के अनुसार  मात्र 6 रूपये थी जो आज कई हज़ार गुना बाद कर 1,20,000रूपये  हो गयी है माना जा रहा है वर्ष 2018  मैं यही मूल्य बढ़कर 6 लाख से अधिक का हो जाएगा !


बिटकॉइन का आविष्कार 3 जनवरी 2009 में सातोशी नाका मोतो  जो की एक प्रोग्रामर था ने कीया  था परन्तु बिटकॉइन के इस जनक के बारे मैं कोई नहीं जानता ; हालांकि अलग अलग वक्त पर कई लोगो ने सातोशी होने के दावे किये है लेकिन वास्तविक रूप मैं कोई उनको नहीं जानता ! शुरुआत में इसका मकसद इसको डिजिटल करेंसी में बदलना नहीं था बल्कि ये साबित करना था की दो व्यक्तियों के बीच का लेनदेन बिना किसी एजेंसी या थर्ड पार्टी की मदद से संभव है या नहीं अर्थात सीधे दो व्यक्तियों के बीच में भुगतान हो सकता है या नहीं !


22 मई 2010 को पहली बार एक पिज़्ज़ा के बदले मैं 10,000 बिटकॉइन का ऑफर दिया गया ! उस समय एक बिटकॉइन की कीमत मात्र 10 सेंट या उससे भी कम थी !  माना जाता है की आज लाखो लोग इस डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल कर रहे है , और दिन ब दिन इसका मूल्य बढ़ता जा रहा है !


बिटकॉइन का कॉन्सेप्ट (संकल्पना ) :


आप सभी जानते है की विश्व में अलग अलग भाषा ; खानपान रहन सहन एवं संस्कृति है इन सब के बीच एक ही  चीज़ ऐसी है जो एक दूसरे को जोड़ती हैं वो है पैसा ! आज हमे किसी भी चीज़ चाहे वो पानी हो कपडा हो मकान हो उसके लिए मूल्य अदा करना होता है ! इंसान की पूरी उम्र इसी पैसो की जदोजहत में निकल जाती है! किसी भी देश की मुद्रा वह की सरकारे एवं वित्तीय संस्थाए निर्धारित करती है आप इस कागज़ की करेंसी को किसी भी वस्तु का क्रय करने के लिए इस्तेमाल करते है जिसका मतलब एक वचन होता है की आप ये मुद्रा उसे दे रहे है और वस्तु खरीद रहे है ! यही मुद्रा को आप बैंको में जमा करवाते है , बैंक आपकी जमा राशि को अन्य उधार लेने वाले ग्राहकों को दे देती है आप अपने अकाउंट में वह राशि देख पा रहे होते है परन्तु आपकी वो राशि चलन में होती है , बैंक इस पर ब्याज वसूलती है अथवा देती है ! इस तरह आपकी राशि अर्थव्यवस्था का हिस्सा होती है ! अगर बैंको में जमा करवाई राशि को 3  % लोग भी वापस ले लेते है तो बैंक आपकी जमा की गयी राशि को लौटा नहीं सकती है क्यूंकि तब तक वो राशि एक बड़ी अर्थव्यवस्था की हिस्सेदार बन चुकी होती है !


बिटकॉइन की संकल्पना इसी धारणा को दूर करने के लिए की गयी है ! बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी है जो एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर पर आधारित है ; इसका इस्तेमाल कंप्यूटर के जरिये एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के लेनदेन में  किया जाता है !आज आप अपने पैसो का लेनदेन बैंको के माध्यम से या किसी थर्ड एजेंसी  से करते है जिसके बदले में बैंक फीस वसूल करता है परन्तु बिटकॉइन इसी मध्यस्ता को हटाकर सीधे दो व्यक्तियों के बीच लेनदेन करता है जो की सुरक्षित होता है !


विश्वसनीयता :-


कई विशेषज्ञों का मानना है की हालांकि बिटकॉइन पर किसी एजेंसी या सरकार  का नियंत्रण नहीं है यह डिजिटल लेन देन का सबसे सुरक्षित माध्यम है !  बिटकॉइन द्वारा लेन देन में कोई मध्यस्थतथा नहीं है लेकिन वास्तव में कई प्रोग्रामर व्यक्तियों के ट्रांजेक्शन पर ब्लॉक चैन द्वारा निगरानी रखते है ! इन्हे माइनर कहा जाता है सीधे शब्दों में ये एक डिजिटल क्लर्क की तरह होते है जो की आपके लेनदेन पर निगरानी रखते है बदले में उन्हें कुछ बिटकॉइन दिए जाते है!


बिटकॉइन को कई देश में प्रभावी ढंग से लागू करने में अचरज में है क्यूंकि इसका कोई नियंत्रण नहीं है परन्तु आप इसे कभी भी कहि भी सुरक्षित ढंग से उपयोग में ला सकते है !  आज आप यह नहीं जानते की कितना डॉलर विश्व भर में है लेकिन बिटकॉइन का उत्पादन सीमित  है ! यह 125 वर्षो बाद समाप्त हो जाएगा मतलब नए बिटकॉइन का निर्माण नहीं किया जा सकता ! वर्ष 2140 तक दुनिया में 2 करोड़ 10 लाख बिटकॉइन  आ चुके होंगे ! कई जानकार मानते है की बिटकॉइन काला धन को समाप्त करने में कारगर है !


बिटकॉइन एक तरह का निवेश है किसी भी वस्तु का अगर सीमित  उत्पादन हो और उसकी डिमांड बढ़ जाए तो उस वस्तु का मोल बढ़ जाता है ! इसी तरह बिटकॉइन का मूल्य दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है !


कमियां :


बिटकॉइन के एन्क्रिप्टेड (सुरक्षित ) होने से कई जुर्म करने वाले जैसे  ड्रग्स माफिया अथवा  अन्य कई प्रकार के जुर्म करने वाले लोग भी इसका उपयोग लेन देन में  करते है ! चूँकि इस पर किसी सरकार या एजेंसी का नियंत्रण नहीं होने से इसका मूल्य घटता बढ़ता रहता है !


भारत के परिदृश्य में :-


हालाँकि इसका लेनदेन पीयर टू पीयर होता है जिसका मतलब है की डिजिटल मनी का लेनदेन सीधा दो व्यक्तियों के कंप्यूटर या वॉलेट में होता है ! इस प्रक्रिया को मजबूती देते है वो लोग जो अपने पावर फूल कंप्यूटर की मदद से इस ट्रांजेक्शन पर निगरानी रखते है ! बिटकॉइन में  कई बड़ी बड़ी कंपनियों ने निवेश किया है !  भारत में मूल रूप से रेमिटेंस के बाज़ार में इसका उपयोग किया जा रहा है या और प्रभावी रूप से किया जा सकता है ! रेमिटेंस का मतलब किसी अन्य देशो में काम कर रहे लोग भारत में अपने लोगो को पैसा जो भेजते है उसे रेमिटेंस कहा जाता है ! रेमिटेंस प्राप्त करने में भारत विश्व में प्रथम है ! इस मनी को एक देश से दूसरे देशो में भेजने पर एजेंसी एवं सरकार 5 से 30 % तक टैक्स वसूलती है ! यही बिटकॉइन के माध्यम से बहुत ही आसान और टैक्स फ्री हो जाता है !


भारत मैं भी कई बिटकॉइन के माइनर अथवा वॉलेट काम कर रहे है ! जानकारों के अनुसार बिटकॉइन आने वाले सालो में अर्थव्यवस्था का बेताज बादशाह होगा वहीं भारत  के लोगो के डिजिटल दुनिया की ओर बढ़ते कदम से आने वालो कुछ वर्षो में बिटकॉइन  डिजिटल लेनदेन का प्रमुख हथियार होगा !



















Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

बम्बई अंडरवर्ल्ड की अनसुनी कहानी की वेब सीरिज़

एक राष्ट्र दो ध्वज : जम्मू कश्मीर की राह पर कर्नाटक राज्य

जीवन के प्रति नज़रिया